In Vedic astrology, gemstones are recommended based on your horoscope. It is believed that by wearing these prescribed gemstones you can overcome the obstacles in your chart. The cause of unhappy relationships or lack of success can be astrological. Wearing a certain gemstone may turn your love life and career around so you can have a fulfilling relationship. 
Gems affects the subtle energy field, which emanates from every living thing, where our energetic and emotional habits, thought patterns, belief systems, and so on reside. The energy pattern of a gem directly affects one's emotional and mental energies, and over a period of time this promotes long-lasting changes. 
But the correct use of Gems is quite necessary. Gems are classified in to two types : Hot And Cold. Ruby, Red coral, Diamond and Cat's eye are Hot gems whereas Pearl, Topaz, Blue Sapphire and Gomed are Cold in nature. 
We select Gems to increase the efficiency or for removal of the deficiency. These remedial stones act in two ways; one is by its spectrum effects and other is by radioactive effects. When a ring is worn, Gem goes on continuously vibrating its power which is absorbed in the individual aura. The protective aura thus becomes powerful to resist any untoward vibrations coming from external sources. 
CAUTION : The Gems should be selected as per the Horoscope needs otherwise there can be reverse results.

रत्नों में चुम्बकीय शक्ति होती है जिससे वह ग्रहों की रश्मियों एवं उर्जा को अवशोषित कर लेती है रत्नों में चमत्कारी शक्ति है जो ग्रहों के विपरीत प्रभाव को कम करके ग्रह के बल को बढ़ते है. रत्नों में अद्भूत शक्ति होती है. रत्न अगर किसी के भाग्य को आसमन पर पहुंचा सकता है तो किसी को आसमान से ज़मीन पर लाने की क्षमता भी रखता है. रत्न के विपरीत प्रभाव से बचने के लिए सही प्रकर से जांच करवाकर ही रत्न धारण करना चाहिए. ग्रहों की स्थिति के अनुसार रत्न धारण करना चाहिए. रत्न धारण करते समय ग्रहों की दशा एवं अन्तर्दशा का भी ख्याल रखना चाहिए. रत्न पहनते समय मात्रा का ख्याल रखना आवश्यक होता है. अगर मात्रा सही नहीं हो तो फल प्राप्ति में विलम्ब होता है. रत्न की शुद्धता की जांच करवाकर ही धारण करना चाहिए धब्बेदार और दरारों वाले रत्न भी शुभफलदायी नहीं होते हैं.